Back to resources

एक नए सत्याग्रह की जरूरत है आज देश को

Active Citizenship | Others | Aug 15, 2022

मेरे दादा जी सदाशिव लक्ष्मण राव सोमन, जिन्हें हम सब बाबासाहेब के नाम से जानते हैं, का 1946 में देहांत हो गया, भारत के स्वतंत्रता दिवस से कुछ ही माह पहले। उन्होंने देश को स्वराज्य दिलाने का सपना साकार करने के लिए दशकों संघर्ष किया। वह 1917 में उन स्वयंसेवकों के उस पहले बैच में शामिल थे जो महात्मा गांधी के आह्वान पर चंपारण आंदोलन में उतरे थे। उन्होंने भितिहरवा में पहला आश्रम बनाने में सहायता की। वहां कई माह रहकर उन्होंने स्कूल व शौचालय बनवाए। साथ ही गांधी जी और कस्तूरबा के सत्याग्रह में शामिल हुए। बाबासाहेब किसी भी तरह के भेदभाव के विरोधी थे। वे स्वयं से पहले सेवा को महत्त्व देते थे और वकालत के अपने कॅरियर का सदुपयोग उन्होंने विवादों का निपटारा करने के लिए किया न कि उन्हें बढ़ाने के लिए। चूंकि हम आजादी के 75 वर्षों का जश्न मना रहे हैं, इसलिए यह उचित समय है कि हम बाबासाहेब जैसे लाखों लोगों के जुनून, प्रतिबद्धता और बलिदानों को नमन करें। मैं कई बार सोचती हूं कि आज के भारत के बारे में बाबासाहेब क्या सोचते? क्या यह उनके सपनों का भारत है? विनोदी स्वभाव वाले बाबासाहेब उदारमना थे और वह यह देखकर खुश ही होते कि भारत की युवा पीढ़ी किस प्रकार रचनात्मक तरीकों से स्वयं को अभिव्यक्त कर रही है। कौन जाने, वह सोशल मीडिया पर भागीदारी कर अच्छी व शालीन बातों को प्रोत्साहित करते! वह निश्चित तौर पर इस बात पर गर्व करते कि भारत से गरीबी दूर हो रही है। जो गरीबी उन्होंने देखी, वह करीब-करीब अतीत की बात हो चली है और अब भी बहुत से लोगों को मदद की जरूरत है, राष्ट्र अंतिम पंक्ति के नागरिकों पर भी ध्यान दे रहा है, जैसा गांधी जी ने सिखाया था। मेरा मानना है वह भारत की सुदृढ़ सिविल सोसायटी पर भी गर्व करते जो जरूरतमन्दों तक पहुंच रही है और सरकार व बाजार दोनों को आईना दिखा रही है, जैसा कि वह अपने समय में करते थे। बाबासाहेब यह देख कर प्रसन्न होते की हम औपनिवेशिक छाया से निकल कर कितनी दूर चले आए हैं। वह भारत के अत्याधुनिक डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर के आविष्कार की सराहना करते। वह इस बात को समझते कि इससे नए भारत के आर्थिक लोकतंत्र की नींव तैयार होगी। अगर उन्हें थोड़ा सा भी लगता कि ये सांस्कृतिक पुनरुत्थान एकतरफा है और बहुसंख्यक समुदाय विभिन्न पंथ, संस्कृति के वर्गों को साथ लेकर चलने की नैतिक जिम्मेदारी नहीं निभा रहा है तो वह इसके लिए आवाज उठाते। संभवत: अगर हम सब अगस्त 2022 में देश के लिए अपने पूर्वजों के सपनों को फिर से याद करें, हम स्वयं आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर पूर्वज बन सकेंगे, जो उनके भविष्य के लिए आशाओं के द्वार खोलेगा। क्या हम ऐसे भविष्य की कल्पना कर सकते हैं, जहां हमारे बच्चे व पोते-पोतियां व अन्य सभी इस धरती पर मानवीय क्षमता के उच्चतम स्तर की उपलब्धियां हासिल कर सकें। क्या यह हमारा नया सत्याग्रह बन सकता है? ऐसा भविष्य मिलना आसान नहीं है, हर नागरिक को इसके लिए काम करना होगा। अगर आज बाबासाहेब होते तो वह इस कल्पना को यथार्थ में बदलने का निरंतर प्रयास करते। हम सबको भी यही करना चाहिए। जय हिंद!

Rajasthan Patrika

Rajasthan Patrika (Image)

Rajasthan Patrika (PDF)

More like this

Ecosystem Building  |  Active Citizenship  |  Others

During the pandemic, we learned how Samaaj, Sarkaar and Bazaar work together in a crisis: Rohini Nilekani

This year marks 30 years since philanthropist-author Rohini Nilekani started her journey in civic engagement. She started with Nagarik, a public charitable trust, in 1992 and is now the Chairperson of Rohini Nilekani Philanthropies and Director of EkStep, a non-profit education platform. She is the Co-founder and Former Chairperson of Arghyam, a foundation she set […]
Aug 23, 2022 |

Others  |  Active Citizenship

Interview: Rohini Nilekani, author, Samaaj, Sarkaar, Bazaar: A Citizen-First Approach – “I wanted the book to be available free”

Your book Samaaj, Sarkaar, Bazaar: A Citizen-First Approach has a selection of your essays and speeches over 15 years. How was your experience of revisiting all this material from the standpoint of where you are today? It was certainly rewarding to look at all the articles that I have written on diverse topics over the […]
Aug 19, 2022 |

Active Citizenship

To Fail is to Have Dared

In this interview with IDR, Rohini speaks about why we need to underwrite failure in the social sector, how philanthropists can support failure in practice, and shares some of her own failures as an activist philanthropist. When working on complex issues of social change, failure is inevitable. Yet, people in the social sector are reluctant […]
Apr 16, 2021 |

Active Citizenship  |  Others  |  Climate & Biodiversity

Reimagining Abundance in Post COVID-19 India

As people return to life and work post the lockdown, some predictions point to a mad rush to do even more than before. Travel more, buy more, meet more people, eat out more — do more of more. The government too is expected to do more to restore economic growth and livelihoods. Much more is […]
May 22, 2020 |