Back to resources

पक्षियों और मनुष्यों का आपसी संबंध

Climate & Biodiversity | Nov 3, 2020

पूरी दुनिया को प्रभावित करने वाले वर्तमान कोरोना वायरस संक्रमण ने हम सभी को इस बात का एहसास करा दिया है कि समय-समय पर जानवरों की बीमारियां मनुष्यों में प्रवेश कर भयंकर महामारी का रूप ले सकती हैं। ऐसी स्थिति में गिद्धों की बहुत जरूरी भूमिका है। वे मृत जानवरों के अवशेषों का जल्द निपटारा कर कीटाणुओं के इंसानी संपर्क की संभावना को कम करते हैं।

पर्यावरण में फैले जहरीले रसायन की वजह से हमारे गिद्ध दोहरे संकट का सामना कर रहे हैं। हमें मिलकर यह प्रयत्न करना होगा कि गिद्ध जल्द से जल्द विलुप्तप्राय श्रेणी से उभर कर दोबारा प्रचुर हों।

भारत में पक्षी सभी जगह पाए जाते हैं। हमारा देश परिंदों की सर्वाधिक विविधता वाले मुल्कों में गिना जाता है।

जहां पूरे विश्व में पक्षियों की करीब 10000 किस्में हैं। इनका एक बड़ा भाग यानि लगभग 1300 प्रजातियां या तो भारतीय उपमहाद्वीप की स्थायी निवासी हैं या फिर यहां अपने जीवन चक्र का एक बड़ा भाग बिताती हैं। प्रवासी पक्षी साइबेरिया जैसे दूर- दराज क्षेत्रों से भारत आते हैं और वे यहां से अफ्रीका तक भी जा सकते हैं।

कौन मानेगा कि नन्ही सी चिड़िया इतने बड़े कारनामे कर सकती हैं। इन्हीं कारणों से इन अद्भुत प्राणियों पर शोध और उनके संरक्षण के लिए हमारा देश एक विशेष भूमिका निभाता है। पक्षियों के बारे में वैज्ञानिक जितना कुछ समझ पाए हैं उससे कहीं ज्यादा अभी भी जानना बाकी है।

मसलन प्रवासी पक्षी बिना रास्ता भटके हजारों मील लंबा सफर कैसे तय कर लेते हैं या फिर परिंदों के संगीत की बारीकियों के पीछे क्या राज छिपे हैं। पिछले कुछ दशकों में पक्षियों की आवाज पर हुए अध्ययन से हमें कई बातें पता लगी हैं।

अक्सर पक्षी हमें दिखाई देने से पहले सुनाई दे जाते हैं। हमें लुभाने वाले मधुर गीत आमतौर पर नर पक्षियों द्वारा प्रजनन के मौसम में गाए जाते हैं। इन गीतों की अवधि कई मिनटों की हो सकती है और अक्सर ये अनेकों बार दोहराए जाते हैं।

गीत के अलावा पक्षी अन्य प्रकार की ध्वनि का भी प्रयोग करते हैं जिसका उद्देश्य झुंड के अन्य सदस्यों से संपर्क करना या खतरे का संकेत देना हो सकता है। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि ट्रैफिक का बढ़ता शोर पक्षियों की बोली को भी प्रभावित कर रहा है।

प्रकृति के पारिस्थितिक तंत्र को कायम रखने में पक्षियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। वे पेड़ पौधों के परागण और उनके बीजों का प्रसार भी करते ही हैं। इसके अलावा हमारी लोककथाएं धार्मिक ग्रंथों और संगीत व अन्य कलाओं में परिंदों की खास जगह है।

Amarj Ujala

PDF

 

More like this

Climate & Biodiversity

Many questions for the dinner table

Some key issues and dilemmas about food that the developed countries are beginning to ponder, and which the argumentative Indian can take to heart. How do we produce food? How do we distribute it? And how do we consume it? These are questions that are increasingly understood to be at the core of sustainable economies. […]
Jul 7, 2007 | Article

Climate & Biodiversity  |  COVID-19

Opportunities for Philanthropy: Community Resilience and Climate Action

Today, more than ever, we need ambitious, accelerated climate action that targets the most vulnerable. We need to start from the first mile, where the impact is felt most. We need approaches that enhance community resilience against the health, livelihood, and other shocks arising from climate change related disasters. We hope this paper will inspire […]
Apr 21, 2020 | Reports

Animal Welfare  |  COVID-19  |  Climate & Biodiversity

Why Shutting Down Reserves to Prevent Covid Transmission to Tigers is a Questionable Move

A blanket ban could endanger wildlife and human livelihoods. India must seize opportunity to innovate to live with and reduce the risk from the inevitable future contagion * India’s Project Tiger is a success by any measure. Our 51 tiger reserves now boast of at least 3,000 tigers. More and more Indians flock to safari […]
Jun 14, 2021 |

Climate & Biodiversity  |  Strategic Philanthropy

A Conversation With Philanthropist Rohini Nilekani

This is an edited version of Rohini Nilekani’s conversation with NatureinFocus Founder Rohit Varma and Kalyan Varma about her thoughts on the importance of conservation, how to reach younger generations, and her love for the environment and a certain black panther in Kabini. I was born in Mumbai in ‘59 and my childhood was spent […]
Jan 9, 2021 |